Tag - शिक्षाप्रद कहानी

Hindi Stories

आलसी आदमी और भगवान का प्लान

एक बार एक आलसी आदमी था जो मेहनत नहीं करना चाहता था और अपना पेट भरने के लिए हमेशा आसान तरीके की जुगाड़ में रहता था. एक दिन वो पास ही के एक खेत में पेड़ो पर रखे फल...

Hindi Stories

ना उड़ सकने वाला बाज

एक समय की बात हैं. एक विशाल नगरी में एक फेमस राजा रहता था. एक दिन राजा की सालगिरा के मौके पर महल में बहुत बड़े समारोह का आयोजन किया गया. इस समारोह में दूर दूर...

Hindi Stories

भगवान के साथ लंच

एक बार एक छोटा लड़का था जो भगवान से मिलना चाहता था. उसे पता था कि भगवान से मिलने के लिए उसे लम्बा रास्ता तय करना होगा इसलिए उसने अपने बेग में खाने के लिए चिप्स...

Hindi Stories

ईमानदार केले वाली

शर्मा जी अपनी रोज की ड्यूटी ख़त्म कर ऑफिस से निकल ही रहे थे कि तभी उन्हें याद आया उनकी बीवी ने एक किलो केले मंगवाए थे. वो जैसे ही ऑफिस से बाहर निकले तो उन्हें...

Hindi Stories

लालची राजा और साधू

एक बार एक साधू एक फेमस राजा की नगरी से गुजर रहा था. साधू को रास्ते में एक सिक्का पड़ा हुआ दिखाई दिया. साधू अपनी साधारण ज़िन्दगी से खुश था और उसे सिक्के का कोई...

Religious

जैसी करनी वैसी भरनी – धार्मिक कहानी

एक बार भगवान श्री कृष्ण और अर्जुन अपनी नगरी में टहलने निकले. रास्ते में उन्हें भीख मांगता एक गरीब साधू दिखाई दिया. अर्जुन को साधू की ये हालत देख तरस आ गया और...

Hindi Stories

दुनियां के 7 असली अजुबें – प्रेरणादायक कहानी

एक बार एक छोटे से गाँव में अंजलि नाम की 9 साल की लड़की रहती थी. अंजलि ने अभी अभी अपनी चौथी की कक्षा पास की थी और पांचवी की पढ़ाई के लिए पास के एक शहर में एडमिशन...

Hindi Stories

अपनी जड़ों को मजबूत बनाओं – प्रेरणादायक कहानी

एक बार एक शहर में दो पड़ोसी रहते थे. इनमे से एक पड़ोसी रिटायर टीचर था, तो दूसरा पड़ोसी एक अमीर बिजनेसमैन था जिसे टेक्नोलॉजी में बहुत दिलचस्पी थी. इन दोनों ही...

Hindi Stories

दो साधू और जोरदार तूफ़ान – प्रेरणादायक कहानी

बहुत समय पहले की बात हैं. एक गाँव से थोड़ी दूर दो साधू झोपड़ी में रहते थे. इन दोनों साधुओं की झोपड़ी तालाब के किनारे पास पास में थी. दोनों ही भगवान के बहुत बड़े...

Hindi Stories

प्यासे बुद्ध और तालाब – प्रेरणादायक कहानी

एक बार बुद्ध अपने श्रद्धालुओ के साथ एक गाँव से दुसरे गाँव में भ्रमण कर रहे थे. इस दौरान बुद्ध ने एक पेड़ के निचे विश्राम करने का सोचा. इतना घुमने फिरने के कारण...

42.857142857143