Hindi Stories

ना उड़ सकने वाला बाज

एक समय की बात हैं. एक विशाल नगरी में एक फेमस राजा रहता था. एक दिन राजा की सालगिरा के मौके पर महल में बहुत बड़े समारोह का आयोजन किया गया. इस समारोह में दूर दूर से कई देशों के लोग आए थे. ये लोग राजा को बधाई देने के साथ साथ उनके सम्मान में तोहफें भी लाए थे.

मेहमानों की लिस्ट में एक अफ्रीका का राजकुमार भी आया था. इस राज कुमार ने राजा को तोहफें में दो नौजवान बाज दिए. इन बाजों को देख राजा काफी प्रसन्न हुआ और अपने सेनापति से इन बाजों को उड़ान भरने की ट्रेनिंग देने को कहा. कुछ महीनो बाद जब सेनापति वापस आया तो उसने राजा को बताया कि वो बस एक ही बाज को उड़ना सिखा पाया. दूसरा बाज उड़ने में कोई दिलचस्पी नहीं ले रहा हैं. वह सारा दिन पेड़ की एक शाखा पर बैठा रहता हैं.

यह बात सुन राजा को निराशा हुई. उसने अपनी नगरी में घोषणा करवा दी कि जो भी इस बाज को उड़ना सिखाएगा मैं उसका घर सोने से भर दूंगा. बस फिर क्या था पैसो के लालच के चलते दूर दूर से लोग आने लगे और उस बाज को उड़ाने की नाकाम कोशिशें कर चले गए.

अंत में एक उम्रदराज आदमी आया. उसने बाज के साथ सिर्फ आधा घंटा ही बिताया था, लेकिन वो बाज को उड़ना सिखाने में कामयाब हुआ. राजा यह बात जान हैरान हुआ और उस बूढ़े आदमी से पूछा “बाबा! मेरे बाज को उड़ना सिखाने के लिए बड़े बड़े जानकार लोग आए लेकिन कोई भी ये काम नहीं कर सका. लेकिन तुमने सिर्फ आधे घंटे में इस बाज को उड़ना कैसे सिखा दिया?”

इस पर बूढ़े आदमी ने कहा “महाराज! बहुत आसान था. बाज जिस पेड़ की शाखा पर बैठा था, मैंने वो शाखा ही काट दी. इसलिए बाज को अपनी जान बचाने के लिए संघर्ष करना पड़ा और वो उड़ना सिख गया.”

राजा बूढ़े आदमी की बात सुन खुश हुआ और उसे धेरे सारा सोना इनाम में दे दिया.

कहानी की शिक्षा: यदि आप जीवन में आगे बढ़ना चाहते हो, ऊँचाइयों को छूना चाहते हो तो आपको उस बाज की तरह अपना कम्फर्ट जोन छोड़ आगे बढ़ना होगा. लाइफ में जितनी मेहनत करोगे उतना ही ऊपर जाओगे और सफलता हासिल करोगे.

About the author

Ajay More

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz
42.857142857143