Motivational

जैक मा की कहानी से सफलता की सीख

जैक मा की कहानी से सफलता की सीख

अलीबाबा अरब की कहानियो से निकल के चीनी नाम बन गया है। एक ऐसी कंपनी का नाम जो दुनिया में सबसे ज्यादा ऑनलाइन सामान बेचती है।  इसका कारोबार करोडो और अरबो में है ये चीन की सबसे बड़ी E commerce Site है। एक दिन में सबसे ज्यादा सामान बेचने का जो रिकॉर्ड है वो भी अलीबाबा का है अलीबाबा ने एक दिन में 925 अरब रुपए की सेलिंग की है  इसको बनाने की पीछे जिस शख्स का दिमाग है वो है जैक मा। जैक का एक इंग्लिश टीचर से ऑनलाइन शॉपिंग कंपनी अलीबाबा डॉट कॉम का मालिक बनने तक का सफर फिल्मी कहानी सरीखा लगता है। जैक ने इंग्लिश वहाँ आने वाले Tourist से सीखी।। जैक की पहली कंपनी चाइना पेजेज थी ये एक ऑनलाइन डायरेक्ट्री थी जिसमें ये डायरेक्ट्री व्यापारियों और कस्टमर्स के बीच पुल का काम करती थी, मतलब दोनों पक्षों के लिए Link उपलब्ध कराती थी। इसके लिए जैक ने जी-तोड़ मेहनत की पर जैक की इसमें भी निराशा ही हाथ लगी चाइना पेजेज को चीनी सरकार ने अपने कब्ज़े में लिया और उससे एक सरकारी पोर्टल  बना दिया पर जैक ने यहाँ हार नहीं मानी। 21 फरवरी 1999 जैक मा ने Alibaba.com की नीव रखी और इसके लिए अपने 17 दोस्तों को तैयार किया।  हालांकि जैक मा पढाई में बिलकुल अच्छे नहीं थे वो पांचवीं कक्षा में ही दो बार फेल हो गए थे। और आठवीं कक्षा में भी वो तीन बार फेल हो गए थे। जैक मा पुलिस में भर्ती होना चाहते थे इसकेलिए उन्होंने Apply करा पर वहाँ भी उन्हें Reject कर दिया गया था। प्रसिद्ध हार्वर्ड यूनिवर्सिटी ने उन्हें 10 Reject किया। जब जैक मा के शहर में KFC ने अपनी ब्रांच खोली तो जैक ने उस जॉब के लिए भी Apply किया पर वहाँ से भी जैक Reject कर दिया गया। करीब 30 नौकरी से Rejection के बाद जैक मा ने  अलीबाबा की शुरुआत की और सफलता का स्वाद चखा। आज ये इंटरनेट कंपनी ज़बरदस्त फ़ायदे में है और दुनिया के ई-कॉमर्स बाज़ार में सबसे आगे है।

जैक ऐसा मानते हैं कि कोई भी गलती आपके लिए एक शानदार रिवेन्‍यू है। 20 साल की उम्र तक एक अच्‍छे स्‍टूडेंट बनो। एन्‍टप्रेन्‍योर बनने के लिए आपको थोड़ा अनुभव लेना जरूरी है। 25 साल की उम्र तक आपको पर्याप्‍त ग‍लतियां करनी चाहिए। बार-बार गिरो और हर बार उठो। नाकाम होने से कभी घबरा नहीं चाहिए। हर समय को एन्जॉय करो। 30 साल की उम्र तक आपको किसी को फॉलो करना चाहिए। छोटी कंपनी में काम करो। बड़ी कंपनी में प्रोसेसिंग अच्‍छे से सीख सकते हैं, लेकिन यहां आप एक बड़ी मशीन का हिस्‍सा बनकर रह जाएंगे। छोटी कंपनी में काम करते हुए आप पैशन सीखेंगे। कई काम एक साथ करना सीखेंगे।
ये ज्‍यादा मायने नहीं रखता कि आप किस कंपनी में काम करते हो, बल्कि यह महत्‍वपूर्ण है कि आपका बॉस कौन हैं। एक अच्‍छे बॉस को follow करना फायदेमंद होगा। एक सफल एन्‍टरप्रेन्‍योर बनना चाहते हैं तो 30 से 40 साल की उम्र में खुद के लिए काम करो । 40 से 50 साल की उम्र तक आपको उन चीजों पर काम करना चाहिए, जिसमें आप दक्ष हों। नई चीजें ट्राई न करें। इसलिए उन चीजों पर फोकस करें जिसमें आप एक्‍सपर्ट हों। 50 से 60 साल की उम्र तक आपको युवा लोगों के लिए काम करना चाहिए। युवाओं पर विश्‍वास करें, उन पर निवेश करें। वे आपसे ज्‍यादा अच्‍छा काम कर सकते हैं। 60 साल की उम्र के बाद खुद के लिए समय देना चाहिए

जैक मा की कहानी हमें प्रेरित करती है की हमें शुरुआती असफलताओं से घबराना नहीं चाहिए। बल्कि उसका समझदारी के साथ मुकबला करो क्यों की वक़्त हमेशा एक सा नहीं होता है अगर आपकी ज़िन्दगी में अभी छाँव है तो इंतज़ार करो सफलता की किरण आपकी ज़िन्दगी को भी रोशन करेगी।

42.857142857143