Motivational

एक किसान जो बना एक सफल बिजनेसमैन

Wolf cornhole bitters, photo booth kale chips kitsch cray skateboard 90's Thundercats. Mlkshk forage locavore chia lomo, Pinterest authentic single-origin coffee gastropub vinyl Schlitz fashion axe.

एक किसान जो बना एक सफल बिजनेसमैन

आज हम जिनके बारे में जानेंगे वो है  फोर्ड मोटर कम्पनी के संस्थापक हेनरी फोर्ड। जिन्होंने  ऑटोमोबाइल उद्योग में क्रांति ला दी। हेनरी फोर्ड ने भारी मात्रा में उत्पादन कर कारों को अमेरिका के आम लोगो तक पहुँचाया।  उनकी पहली कार जिसका नाम था Ford Model A जिससे उन्होंने 1904 में Lunch किया था। पर Ford Model T कार को माध्यमवर्गीय लोगो ने बहुत पसंद किया। ये एक ऐसी कार थी जिससे अमेरिका का माध्यमवर्गीय परिवार Afford कर सकता था। इस कार ने अमेरिका उद्योग जगत में क्रांति ला दी। हेनरी फोर्ड का नाम विश्व के सबसे धनि व्यक्ति में शुमार होने लगा। हलाकि फोर्ड का शुरुवाती जीवन काफी संघर्षपूर्ण रहा है। फोर्ड एक किसान परिवार से थे।  उनके पिता किसान थे और पढाई के साथ साथ फोर्ड खेत पर भी अपने पिता का पूरा साथ देते। बचपन से फोर्ड को मशीनो से प्यार था। चाहे फिर खेती करने के उपकरण क्यों ना हो। वो आस पड़ोस की ख़राब हुई मशीनो के ठीक कर दिया करते थे। फोर्ड स्कूल जाने के लिए रोजाना करीब 4KM पैदल चल कर जाया करते थे। उनके पिता चाहते थे की वो पूरा ध्यान खेती करने में लगाये पर फोर्ड का मन तो कुछ और ही सपने बुनने में लगा था। उसी सपने को पूरा करने के लिए 16 साल की उम्र में दूसरे शहर डेट्रॉइट चले गए।  वहाँ कई कारखानो में काम करने के कुछ साल बाद घर वापस आए।  और अपने पिता की कृषि भूमि पर कृषि उपकरण सुधारने की वर्कशॉप खोली। पर फोर्ड का मन उसमे नहीं लगा। अब फोर्ड नई संभावना की तलाश में डेट्रॉइट फिर गए वह उन्होंने महान वैज्ञानिक थॉमस ए. एडिसन के साथ काम करने का मौका मिला। थॉमस ए. एडिसन भी फोर्ड की मेह्नत को देखकर प्रभावित हुऐ और उन्हें भाप से चलने वाले इंजन मेंटेनेंस विभाग का प्रमुख बनाया गया। एडिसन के साथ काम कर के फोर्ड इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग सीखी। फोर्ड भाप से चलने वाले इंजन से प्रभावित होके। भाप से चलने वाला एक वाहन बनाने की कोशिश करने लगे।

Ford-Model-Tवो नौकरी से लौटकर देर रात तक उसके लिए काम करते और उनकी मेह्नत रंग लायी फोर्ड सफल रहे ये मशीन भाप की शक्ति से चल सकती थी इसका नाम फोर्ड ने Ford Quadri-cycle रखा।  ये उनका पहला अविष्कार था और उस समय फोर्ड की उम्र 33 वर्ष रही होगी।  अब ये बात हर जगह फ़ैल चुकी थी।ये बात डेट्रॉइट के मेयर, विलियम मईयूरी के पास पहुंची मेयर ने उन्हें 200 डॉलर उधार देकर इससे और बेहतर बनाने को कहा और कई निवेशक उनकी और आकर्षित हुए। इन निवेशकों की पूंजी से हेनरी फोर्ड ने ऑटोमोबाइल कंपनी की स्थापना की फिर इस कंपनी को छोड़कर ये  रेसर कार बनाने लगे। उस कार को कई रेस में सफलता मिली इससे उनका बहुत नाम हुआ। इस प्रसिद्धि से उन्होंने Ford Motor कंपनी की स्थापना की। पहले साल Ford Motor 1,708 कारो का निर्माण किया और इससे उन्हें बहुत मुनाफा हुआ अगले साल उन्होंने उत्पादन बढ़ा कर 5000 करो का निर्माण किया।

1908 में पांच साल बाद इस कंपनी ने मॉडल T कार लॉन्च की, जिसने मोटर कार उद्योग में क्रांति कर दी। पहले ही साल 10,000 कारे बिक गई। इससे उन्हें इतना मुनाफा हुआ की उन्होंने फ्रांस और में इंग्लैंड में औरमैन्यूफैक्चरिंग संयंत्र स्थापित किए।

एक  सामान्य किसान परिवार में जन्मे फोर्ड ने अपनी कड़ी मेहनत के दम पर एक साम्राज्य स्थापित किया। उन्होंने सपना देखा और उस सपने को पूरा करने के लिए दिन रात एक कर दिए। ये ऐसी कहानी थी जिसने हम सब को प्रेरित किया की कैसे मेहनत से एक साधारण किसान दुनिया के सबसे बड़ा उद्योगपति बन गया। 83 वर्ष उम्र में  ब्रेन हेमरेज के कारण 7 अप्रैल 1947 को उनका निधन हुआ।

———————-  एक निवेदन  ———————-

यदि आपके पास Hindi में कोई article,  story  या कोई जानकारी है तो हमसे जरूर Share करें | आप हमें Email कर सकते है हमारा ईमेल है whoopeelife@gmail.com

कृपया हमें अपनी फोटो के साथ E-mail करें. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!

42.857142857143